ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
औदीच्य ब्राह्मण युवा संगठन ने कोरोना महामारी से शहर सुरक्षित बनाये रखने हेतु एसडीएम को ज्ञापन सौंपा
June 21, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़
औदीच्य ब्राह्मण युवा संगठन ने कोरोना महामारी से शहर सुरक्षित बनाये रखने हेतु एसडीएम को ज्ञापन सौंपा

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

विगत डेढ़ माह से शहर को कोराना मुक्त बनाए रखने हेतु प्रशासन के प्रति कृतज्ञता प्रकट कर एसडीएम का स्वागत किया तथा मांग की कि, प्रदेश के बाहर से आने वाले एवं रेड जोन क्षेत्र में निवासरत के नगर आगमन पर आगंतुक व परिवार को 14 दिन कोरनटाइम किया जाये-

नागदा- सहस्त्र औदीच्य ब्राह्मण युवा संगठन एवं अखिल भारतीय औदिच्य ब्राह्मण तहसील युवा इकाई के नेतृत्व में युवाओं ने प्रशासन के समक्ष शहर को कोरोना महामारी से मुक्त बनाये रखने के लिए चिंता जताई। जिसके अंतर्गत क्षेत्र का ब्राह्मण युवा संगठन 19 जून शुक्रवार को एसडीएम श्री आर पी वर्मा से मिला।

जंहा पिछले डेढ़ माह से नागदा शहर को कोरोना मुक्त बनाये रखने व नियमो का पालन करवाने के लिए समस्त प्रशासनिक टीम के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए एसडीएम श्री वर्मा को गुलदस्ता भेट कर स्वागत किया गया। संगठन अध्यक्ष निलेश मेहता एवं तहसील युवा अध्यक्ष सचिन शिकारी के साथ युवा सदस्य शिवमंगल उपाध्याय, पंडित अजय पंड्या, हेमंत जोशी, पंकज उपाध्याय, पंडित दीपक रावल,मनीष व्यास, गौरव पाठक, कमल त्रिवेदी, सौरभ पाठक, मुकुन्द मेहता आदि ने अनुविभागीय अधिकारी श्री आर पी वर्मा को ज्ञापन पत्रक सौपा, जिसमे मांग की गयी कि कोरोना महामारी के चलते विगत कई दिनों से नागदा में कोई भी व्यक्ति संक्रमित नहीं था, परंतु 6 जून को नोएडा से आये व्यक्ति जांच में कोरोना संक्रमित पाए गए, उस व्यक्ति के आने के बाद वे शहर में कई अन्य लोगो से भी मिले।

जिसकी जानकारी समाचार पत्रों से प्राप्त हुई है। युवा संगठन सदस्यों ने मिलकर प्रशासन से निवेदन किया कि इस घटना से शहर में कोरोना संक्रमण के पुनः पैर पसारने का संकेत मिला है। इसलिए आने वाले समय में नागदा में अन्य राज्यों से आने वाले तथा रेड जोन में निवासरत लोगो के आने पर या तो रोक लगाई जाए या शहर में आने के बाद जांच उपरांत आगंतुक व उसके परिवार को 14 दिन के लिए कोरेन्टीन किया जाए।

जिसके आदेश प्रशासन जारी करें। जिससे शहर में कोई भी संक्रमित प्रवेश नहीं कर सके और निवेदन किया कि प्रायः यह भी देखा जा रहा है कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा अपने पारिवारिक या रिश्तेदारी पक्ष की जानकारी होने पर भी संबंधित परीक्षण टीम को इसकी जानकारी प्रस्तुत नहीं की जा रही है। जिसकी संगठन निंदा करता है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया जाए, कि वह अपने कर्तव्यों का पालन निष्ठापूर्वक करें क्योंकि वैश्विक बीमारी में कोई सगा संबंधी नहीं है।इस कृत्य से वह स्वयं व उसका परिवार भी इस संक्रमण के घेरे में आ सकता है।

साथ ही आग्रह किया कि वर्तमान में मिली छूट के कारण शहर में आमजन द्वारा कोरोना रोकथाम हेतु आवश्यक नियमो के पालन में अनदेखी कर रहे है, जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा है। उक्त नियम पालन अंतर्गत सख्त निर्देश एवं कार्यवाही करने का आग्रह किया गया।

ज्ञापन की प्रतिलिपि जिलाधीश महोदय उज्जैन, पुलिस अधीक्षक महोदय उज्जैन, विधायक महोदय नागदा को प्रेषित की गई।