ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
एमपी में कांग्रेस की सरकार ख़तरे में, कमलनाथ का आखिरी दांव, 20 मंत्रियों से लिए इस्तीफे, नई कैबिनेट बनाएंगे
March 10, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • राजनीति

मंत्रियों ने सामूहिक त्यागपत्र मुख्यमंत्री को सौंपे

मंत्रीमंडल की बैठक में किया पुनर्गठन का अनुरोध

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की अध्यक्षता में आज मुख्यमंत्री निवास पर हुई मंत्रीमंडल की बैठक में मंत्रियों ने अपने सामूहिक त्यागपत्र मुख्यमंत्री को सौंपे। मंत्रियों ने मुख्यमंत्री से मंत्रीमंडल का पुनर्गठन करने का अनुरोध किया । मध्य प्रदेश में एक बार फिर सियासी संकट पैदा हो गया है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक करीब 20 कांग्रेस विधायक बेंगलुरु पहुंच गए हैं.रिपोर्ट के मुताबिक जो विधायक बेंगलुरु पहुंचे हैं उनमें 6 मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री भी हैं.

एमपी के 20 मंत्रियों ने इस्तीफा दिया

मध्य प्रदेश से एक बहुत बड़ी खबर इस वक्त आ रही है. रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश के लगभग 20 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है, सीएम कमलनाथ के साथ मीटिंग में मौजूद सभी मंत्रियों ने सीएम कमलनाथ को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. सीएम कमलनाथ को फिर से कैबिनेट का गठन करने और जरूरत के मुताबिक मंत्रियों को चुनने की आजादी दी गई है. रिपोर्ट के मुताबिक लगभग 20 मंत्रियों ने सीएम कमलनाथ को इस्तीफा सौंप दिया है. सीएम कमलनाथ से जुड़े नजदीकी सूत्रों का कहना है कि बेंगलुरु गए विधायक पार्टी में वापस आ जाएंगे.

इसी के साथ शाम लगभग 7 बजे से चल रही कमलनाथ कैबिनेट की बैठक खत्म हो गई है. ये बैठक लगभग साढ़े चार घंटे तक चली है. मंगलवार शाम 5 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी बुलाई गई है.

हम नहीं गिरा रहे सरकार- गोपाल भार्गव

मध्य प्रदेश के नेता विपक्ष गोपाल भार्गव ने आजतक से बातचीत में कहा कि कांग्रेस में उठापटक के लिए बीजेपी जिम्मेदार नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर एमपी में कमलनाथ सरकार गिरती है और हमें मौका मिलता है तो आलाकमान जो भी कहेगा वैसा हम करेंगे.

लखनऊ से भोपाल जा रहे हैं MP के राज्यपाल

मध्य प्रदेश में अचानक बढ़े राजनीतिक तापमान के बीच एक अहम खबर आ रही है. मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन मंगलवार सुबह को लखनऊ से भोपाल जा रहे हैं.

नड्डा से मिलने के बाद अमित शाह से मिलने पहुंचे शिवराज

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिलने के बाद पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान गृहमंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता अमित शाह से मिलने पहुंचे हैं. शिवराज सिंह अमित शाह के घर पर उनसे मुलाकात कर कर रहे हैं. इस मुलाकात में बीजेपी नेता नरेंद्र सिंह तोमर भी मौजूद हैं. अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान के बीच 2 घंटे से बैठक चल रही है.

क्या है एमपी का समीकरण

मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं. एमपी के 2 विधायकों का निधन हो गया है. इस तरह से विधानसभा की मौजूदा शक्ति 228 हो गई है. कांग्रेस के 114 विधायक हैं. एमपी में इस वक्त सरकार बनाने का जादुई आंकड़ा 115 है. कांग्रेस को 4 निर्दलीय, 2 बीएसपी और एक एसपी विधायक का समर्थन मिला है. इस तरह कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन है. जबकि बीजेपी के पास 107 विधायक है.

शिवराज चुने जा सकते हैं विधायक दल के नेता

रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक में पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को बीजेपी विधायक दल का नेता चुना जा सकता है. इस गोपाल भार्गव एमपी में विधायक दल के नेता हैं. बीजेपी ने इस विधायक दल की बैठक में अपने सभी 107 विधायकों को मौजूद रहने को कहा है. इस मीटिंग में मध्य प्रदेश बीजेपी के सभी सांसद भी मौजूद रहेंगे. बीजेपी नेता विनय सहस्त्रबुद्धे भी मंगलवार को भोपाल जा रहे हैं.

जेपी नड्डा और शिवराज के बीच मंथन

मध्य प्रदेश के सियासी हलचल पर बीजेपी ने भी अपनी रणनीति शुरू कर दी है. मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की है. दोनों नेताओं के बीच राज्य के ताजा घटनाक्रम पर बातचीत हुई है. दोनों के बीच ये मुलाकात दिल्ली मुख्यालय में हुई है.

6 मंत्री समेत 20 कांग्रेस विधायक पहुंचे बेंगलुरु

पहले पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक सिंधिया समर्थक 17 विधायकों को लापता बताया गया था. बाद में रिपोर्ट आई कि ये विधायक एक चार्टर प्लेन से बेंगलुरु पहुंचे थे. ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अब ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली स्थित अपने निवास पहुंच गए हैं. इस बीच खबर है कि एमपी बीजेपी के भी 6 विधायक बेंगलुरु पहुंच गए हैं.

एमपी का ये राजनीतिक घटनाक्रम ऐसे वक्त में सामने आया है, जबकुछ ही दिन बाद राज्यसभा चुनाव होने को हैं. मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार मामूली बहुमत के आधार पर सरकार चला रही है. सीएम कमलनाथ, दिग्विजय सिंह समेत कई नेता आरोप लगा चुके हैं कि बीजेपी उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर उनकी सरकार गिराना चाहती है.