ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
कलेक्टर ने 8 पत्रकारों को चेक से दी 50-50 हज़ार की रिश्वत, नरेंद्र मोदी ने की थी इसकी शुरूआत
February 2, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • राजनीति
कलेक्टर ने 8 पत्रकारों को चेक से दी 50-50 हज़ार की रिश्वत, नरेंद्र मोदी ने की थी इसकी शुरूआत

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

राजकोट ज़िला पत्रकारों से आठ पत्रकारों को पचास पचास हज़ार रुपये दिए गए हैं। 26 जनवरी को राजकोट में गणतंत्र दिवस समारोह हुआ था। गुजरात में मुख्यमंत्री हर साल अलग अलग ज़िले में गणतंत्र दिवस मनाते हैं। मुख्यमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी ने इसकी शुरूआत की थी। लेकिन इसके अच्छे कवरेज के लिए पत्रकारों को पचास हज़ार का चेक जारी कर दिया गया और वो भी इतने कम समय में।

जब यह खबर छपी तो राजकोट कलेक्टर ने प्रेस कांफ्रेंस भी किया। गुजराती तो नहीं जानता लेकिन मुझे बताया गया है कि कलेक्टर रेम्या मोहन ने कहा है कि बहुत पहले से अख़बारों को पैसे दिए जाते हैं। इस बार अख़बारों ने कहा कि पत्रकारों के नाम से पैसा दें। फिर तो ये सीधा सीधा रिश्वत है। विज्ञापन के पैसे की व्यवस्था के नियम हैं। अख़बार को ही पैसे दिए जाते हैं न कि पत्रकारों को।

कलेक्टर के हस्ताक्षर वाले 50-50 हजार के चेक से 8 पत्रकारों को रिश्वत! दिव्य भास्कर ने लौटाते हुए कहा- ये हमारे मूल्यों के खिलाफ

राजकोट. गुजरात में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम को राजकोट कलेक्टर कार्यालय से ही पलीता लगा दिया। दरअसल, राजकोट में पत्रकारों को 50-50 हजार रुपए के चेक कलेक्टर कार्यालय की ओर से दिए गए। 8 अखबारों के पत्रकारों को दिए गए इन चेक पर कलेक्टर और रेसिडेंट एडिशनल कलेक्टर के हस्ताक्षर हैं। गणतंत्र दिवस समारोह-2020 के राज्य स्तरीय समारोह की मेजबानी के बाद कलेक्टर कार्यालय की ओर से ये चेक बांटे गए।

  • पत्रकारों को बताया गया कि गणतंत्र दिवस समारोह के अच्छे कवरेज के एवज में ये चेक दिए जा रहे हैं। लेकिन दैनिक भास्कर समूह के दिव्य भास्कर के पत्रकारों ने इसे लेने से इनकार कर दिया। साथ ही कलेक्टर से कहा- ‘भास्कर की स्पष्ट पॉलिसी है- नो पेड न्यूज। यह रिश्वत है, जिसे हम नहीं ले सकते। यह हमारे मूल्यों के खिलाफ है। आगे से ऐसी भूल नहीं करना।’
  • भास्कर के पत्रकार ने सिर्फ सबूत जुटाने के लिए यह चेक लिया था। फिर शनिवार को भास्कर की टीम एडिशनल कलेक्टर परिमल पंड्या के दफ्तर पहुंची। सवाल कर जानना चाहा- ‘हमने विज्ञापन नहीं छापा है, तब भी हमारा चेक क्यों बना?’ इस पर एडिशनल कलेक्टर बोले- ‘हमने यह जांच नहीं की। 26 जनवरी का कार्यक्रम अच्छा रहा। विज्ञापन नहीं छापा हो तो भी आपसे लगाव है। इसलिए चेक स्वीकार कर लीजिए।’

कलेक्टर बोले- चेक देना गलत नहीं, सीएस ने कार्रवाई का भरोसा दिया

इस मसले पर राजकोट कलेक्टर रेम्या मोहन ने कहा कि सब नियमानुसार हुआ है। चेक देना कोई गलत काम नहीं है। वहीं, मुख्य सचिव अनिल मुकीस से जब भास्कर ने संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। जांच के बाद कार्रवाई करूंगा।