ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
केंद्रीय मंत्री के बिगड़े बोल, कहा- युवाओं को ‘नौकरी’ देने का हमने ठेका नही ले रखा रखा है
October 16, 2019 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID
केंद्रीय मंत्री के बिगड़े बोल, कहा- युवाओं को 'नौकरी' देने का हमने ठेका नही ले रखा रखा है

 

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव होनें है सभी पार्टियाँ प्रचार करने के लिए अपना पुरा दम खम लगा रही है। पिछले दिनों मोदी सरकार के कद्दावर मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद सिंह चुनाव प्रचार के लिए मुंबई गए हुए थे।

वहां पर मिडिया से बातचीत करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, “मैं आपको 10 मापदंड बता सकता हूं जहां अर्थव्यस्था अच्छा प्रदर्शन कर रही है लेकिन एनएसएसओ की रिपोर्ट में इनमें से किसी को नहीं दिखाया गया है. इसलिए मैं इस रिपोर्ट को गलत कहता हूं.”

इसे भी पढ़ें :- मान्यता दत्त की फिल्म 'बाबा' पहुंची गोल्डन ग्लोब्स, निर्माता ने अपनी खुशी की ज़ाहिर!

प्रसाद ने अर्थव्यवस्था में गिरावट की धारणा को दूर करने का प्रयास करते हुए कहा, “इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण, सूचना एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र, मुद्रा लोन और वाणिज्यिक सेवा क्षेत्र बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं. हमने कभी नहीं कहा था कि हम सभी युवाओं को सरकारी नौकरी देंगे.” उन्होंने कहा, “कुछ लोग सरकार के खिलाफ मोर्चा बनाकर बेरोजगारी के मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने का काम कर रहे हैं.”

इसे भी पढ़ें :- मां करती थी संस्कारी रोल, बेटी ने फिल्मों मे आते ही किसिंग सीन देना शुरू कर दिया

प्रसाद की अर्थव्यवस्था के लेकर टिप्पणियां ऐसे समय आई हैं जब विश्व प्रतिस्पर्धा सूचकांक रिपोर्ट में भारत का स्थान दस पायदान नीचे आ गया. दूसरी तरफ औद्योगिक सूचकांक अगस्त माह में 1.1 प्रतिशत नीचे आ गया जो कि पिछले सात साल के दौरान सबसे कमजोर प्रदर्शन रहा है.

इसे भी पढ़ें :- रिलायंस पावर प्लांट के विस्थापित भाइयो को मिला सांसद रीती पाठक जी का समर्थन, वीडियो में कह दी यह बड़ी बात देखें

प्रतिस्पर्धा सूचकांक के बारे में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा, ''आप नवोन्मेष, स्टार्ट अप और बाजार आकार मापदंडों को देखिये, हम सबमें सुधार ला रहे हैं. यह सच है कि कुछ अन्य मापदंडों में हम नीचे आये हैं।