ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
कोरोना के प्रति जागरूकता के लिए कार को कोरोना का दिया स्वरूप, इंटीरियर डिजाइन अंकित अग्रवाल के कोरोना कार को एसपी ने दिखाई हरी झंडी
May 4, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़
लॉक डाउन में जबलपुर में धड़ल्ले से बिकी अवैध शराब, आबकारी विभाग की भूमिका संदिग्ध माफियाओं का राज कायम

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ जबलपुर // प्रशांत वैश्य : 79990 57770

  • लॉक डाउन में खुलेआम बिकी शराब आबकारी विभाग की भूमिका संदिग्ध 
  • आबकारी विभाग सोता रहा कुंभकरण की नींद में, पुलिस पकड़ती रही अवैध शराब

जबलपुर । शहर में लॉक डाउन के 41 दिन पूरे होने के बाद भी माफियाओं के हौसले बुलंद हैं लॉक डाउन के दौरान माफियाओं में शहर में शराब की पूर्ति कर रखी थी. जहां एक तरफ जनता लग्न का पालन कर रही थी.

वहीं दूसरी तरफ शराब माफिया नियमों की धज्जियां उड़ा रहे थे आखिर क्या वजह थी जबलपुर का आबकारी विभाग माफियाओं को पकड़ने में बेबस नजर आ रहा था वहीं दूसरी जबलपुर के तमाम थाना क्षेत्रों में शराब की पेटियां भर भर के पकड़ी जा रही थी यह अपने आप में आबकारी विभाग के ऊपर एक बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह दर्शाता है कहीं ना कहीं अधिकारी और माफियाओं की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है. 

इसे भी पढ़ें :- शहर में धड़ल्ले से चल रही अवैध शराब की तस्करी, 139 पेटी देशी शराब कीमती 6 लाख रूपये की तथा लीलेण्ड चार पहिया वाहन पकड़ा, कई जगह कार्यवाही का इन्तजार

आबकारी के सेनापति कहे जाने वाले जिला सहायक आबकारी अधिकारी कंट्रोलर धांसू लाल मरावी की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है आखिर क्या वजह है कि थाने की पुलिस शराब पकड़ लेती है और क्राइम ब्रांच शराब पकड़ लेती है. यदि आबकारी विभाग जानबूझकर शराब माफियाओं पर कार्यवाही नहीं कर रहा इसका मतलब साफ है लॉक डाउन के दौरान एक बड़ा नजराना आबकारी विभाग के चुनिंदा अधिकारियों के पास पहुंच रहा है.

इसे भी पढ़ें :- जबलपुर में धड़ल्ले से हो रही अवैध कच्ची शराब की तस्करी, 3 आरोपी गिरफ्तार, 57 लीटर कच्ची शराब जप्त की

गौरतलब है कि कमलनाथ सरकार के दौरान 12 सौ करोड़ रुपए का ठेका आवंटित किया गया लेकिन उस तारीख के बाद कमलनाथ सरकार गिर गई और ठेके बंद हो न जाने मध्य प्रदेश को किसकी नजर लग गई और आप कारी के ठेके बंद हो गए ऐसे में शराब माफिया तिलमिला गए और उन्होंने उल जलूल दामों में अपने पैसों की वसूली करने के लिए सर आपको खफाना शुरू कर दिया इस पूरे शराब को खपाने के खेल में कहीं ना कहीं आपकारी की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है

क्योंकि अगर आबकारी की मानें तो उन्होंने पहले ही शराब की दुकानों को सील बंद कर दिया था ऐसे में इतनी बड़ी मात्रा में शराब पूरी जबलपुर को नहलाने के लिए काफी था लेकिन हर बार आबकारी विभाग इन सवालों से छुपता बस्ता नजर आ रहा है 

इसे भी पढ़ें :- भाजपा के जिला पदाधिकारियों से लेकर मंडल अध्यक्षों तक पाए गए शराब तस्करी में संलिप्त, लॉक डाउन के बावजूद शराब बेचते और पीते पकड़े गए भाजपा के नेता : शैलेश नितिन त्रिवेदी

यहां तक कि आबकारी आयुक्त खुद इन सवालों का जवाब देने से मीडिया से कतराते नजर आए ऐसे में सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि यदि इतने कड़े पहरे कर्फ्यू में लोगों के बाद भी शराब माफिया इतने सक्रिय है तो आम दिनों में लाखों और करोड़ों के वारे न्यारे आपकारी के आशीर्वाद से हो ही जाते होंगे सरकार और पुलिस के आला अधिकारियों को चाहिए ऐसी विकट महामारी के दौर में यह दिखलाता है आपातकाल की स्थिति में भी लोग अपनी जेबें भर रहे हैं ऐसे विफल रहे अधिकारियों को क्यों नहीं निष्कासित करना चाहिए।