ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
कोरोना वायरस से लड़ने की मुहिम में देशवासी हुये एकजुट, जगमगा उठी शहर से लेकर गांव की गलियाँ
April 6, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़

कोरोना वायरस से लड़ने की मुहिम में देशवासी हुये एकजुट, जगमगा उठी शहर से लेकर गांव की गलियाँ

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

नागदा जं.। कोरोना वायरस से लड़ने की मुहिम में देशवासी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर ठीक रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बुझाकर और मोमबत्ती, दीये, मोबाइल फोन की टॉर्च जलाकर एकजुटता का प्रदर्शन करते दिखाई दीये।

देशवासी संकल्प ले रहे हैं कि एकजुटता के साथ नियमों का पालन कर इसे हराया जा सकता है। घर-घर में ऐसा नजारा देखने को मिला, जब हर किसी ने अपने घरों की लाइटें बुझाकर दीये, मोमबत्ती की रोशनी की है। सुल्तान सिंह शेखावत द्वारा अपने घर मे दीपक प्रज्वलित किया गया। वही भाजपा मंडल अध्यक्ष राजेश धाकड़ ने अपने पूरे परिवार के साथ दीप प्रज्वलित कर इण्डिया लिख भारत की एकता और अखण्डता का परिचय देते हुवे अपनी भावनाओं को व्यक्त किया।

कोरोना वायरस से लड़ने की मुहिम में देशवासी हुये एकजुट, जगमगा उठी शहर से लेकर गांव की गलियाँ

नगर मे दीपावली जैसा माहौल देखने को मिला । मोमबत्तियाँ जल रही है दीये जल रहे है पटाखो की आवाजो के साथ जयकारे लग रहे है तो कही से शंखनाद की ध्वनी सुनाई दे रही है लोगो मे हर्ष व्याप्त है। सुखद अहसास , साल मे दो बार दीपावली का आनन्द लेते युवा एव बच्चे नजर आ रहे है। ये नजारा था नागदा का जहां लोगों ने घरों की लाइट बंद कर दीये-मोमबत्ती जलाए हैं।

एक क्लिक में वीडियो खबर : जगमगा उठी शहर से लेकर गांव की गलियाँ 

जगमगा उठी शहर से लेकर गांव की गलियों तक भारत भूमि , काश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत भूमि पर एक आह्वान पर हर घर हर गली नुक्कड़ पर दियें जगमगाते हुए नजर आये। करोना वायरस के संक्रमण से निपटने व देश में चल रहें आतंरिक रूप से संकमण से निपटने के लिए भारत भूमि में पैदा हुआ हर भारतवासी अपनी एकता का परिचायक बना जो भारत माता का सच्चा सपूत है।

भारत भूमि पर संक्रमण के रूप में आई इस भीषण बीमारी से निपटने के लिए हर भारतीय कमर कस कर सहयोग दे रहा है परन्तु इसी बीर , धरा में जहां दया, करूणा, प्रेम की सरिता बहती है वही निशाचर, पिशाच, जाहिल, इस वायरस को फैलाने भारत भूमि से दोगलेपन का सौदा करने से बाज नहीं आये व देश को संकट में डालने का भरपूर प्रयास किया है, यह देव भूमि ॠषियों , तपस्वी व धर्म की धरा में ज्यादा दिन टिक नहीं सकेगें पर हरकतों का चित्रण कर पहचान बना दिया है....

पांच अप्रैल की रात नौ बजते ही जो दीपक, रोशनी व त्याग, एकता देश की एकता अखंडता सम्प्रभुता और धर्म-निरपेक्षता का ध्वज अपने आप में लहराया गया भारत खिल उठा है व एक प्रगतिशील साहस व निष्ठा के साथ भारत का हर वह नागरिक एक है जो भारत माता का सपूत है सलाम है भारत भूमि की एकता को व उस आह्वान को जिसके साथ देश तैयार है हर परिस्थितियों में साथ निभाने के लिए,, सभी भारतीय, भारत के सच्चे सपूतों को सलाम जो इस विपदा को हराने में जाति, पांति, धर्म, सम्प्रदाय से विरक्त होकर भारत भूमि के सपूत है.