ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
मंदिरों में सिर्फ भगवान के दर्शन कर सकेगें श्रद्धालु, ना बजेगी घंटियां, ना बंटेगा प्रसाद, सोशल डिस्टेंस का पालन आवश्यक
June 8, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़

मंदिरों में सिर्फ भगवान के दर्शन कर सकेगें श्रद्धालु, ना बजेगी घंटियां, ना बंटेगा प्रसाद, सोशल डिस्टेंस का पालन आवश्यक

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ मुलताई, जिला बैतूल 

मुलताई । लाक डाऊन में ताप्ती तट सहित नगर के मंदिरों के कपाट बंद रहने से श्रद्धालु भगवान के दर्शन नही कर पाए लेकिन अब सोमवार से मंदिरों के कपाट खुल चुकें हैं एवं भक्त भगवान के दर्शन भी कर सकते हैं लेकिन इसके साथ ही शासन के नियमों का भी पालन आवश्यक रूप से करना होगा। 

ताप्ती मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष तहसीलदार सुधीर जैन ने बताया कि ताप्ती मंदिर  में श्रद्धालु माता जी के दर्शन तो कर सकेगें लेकिन इसके साथ ही नियमों का पालन भी करना पड़ेगा। उन्होने बताया कि ताप्ती मंदिर में श्रद्धालुओं को जहांउचित शारारिक दूरी का पालन करना होगा वहीं प्रसाद तथा पूजन सामग्री चढ़ाने पर प्रतिबंध रहेगा।

इसके अलावा मंदिर से प्रसाद का भी वितरण नही किया जाएगा एवं घंटे-घडिय़ाल भी नही बजाए जाएगें। उन्होने बताया कि मंदिरों में आरती के दौरान भी भीड़ नहीं की जा सकती तथा श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंस का पूरी तरह पालन करना होगा। उन्होने बताया  आरती के दौरान लाऊडस्पीकर का प्रयोग किया जा सकता है। 

मुख्य द्वार पर होगी सेनेटाईजर की व्यवस्था 

ताप्ती मंदिर सहित अन्य मंदिरों में उचित शारारिक दूरी के पालन के साथ ही मुख्यद्वार पर सेनेटाईजर की भी व्यवस्था की जाएगी ताकि श्रद्धालु श्रद्धालु हाथों को सेनेटाईजर से साफ करने के बाद ही मंदिर में प्रवेश कर सकें। इस दौरान ताप्ती मंदिर में ट्रस्ट द्वारा एक कर्मचारी की भी नियुक्ति की गई है जो श्रद्धालुओं से नियमों का पालन कराएगा। बताया जा रहा है कि सरकार गाईड लाईन के अनुसार ही मंदिरों में प्रवेश कराया जा रहा है।

इधर लंबे समय बाद मंदिर खुलने से श्रद्धालुओं में हर्ष व्याप्त है वहीं ताप्ती प्रदक्षिणा मार्ग पर भी अब रौनक बढ़ जाएगी। श्रद्धालुओं के अनुसार मंदिरों के बंद रहने से ताप्ती तट की रौनक खत्म हो गई थी। हालांकि इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु प्रतिदिन सुबह शाम परिक्रमा मार्ग पर पहुंचकर सरोवर की परिक्रमा लगा रहे थे लेकिन अब मंदिरों के पट खुल जाने के बाद सुबह शाम ताप्ती तट पर रौनक नजर आएगी।