ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
नवाचार के माध्यम से बच्चों के बौद्धिक क्षमता को बढ़ाएं : डॉ. आलोक शुक्ला
January 7, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़
नवाचार के माध्यम से बच्चों के बौद्धिक क्षमता को बढ़ाएं : डॉ. आलोक शुक्ला

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़  // उत्सव वैश्य : 9827482822

रायगढ़. योजना आर्थिक एवं सॉंख्यिकीय, विज्ञान एवं प्रौद्योगिक के प्रमुख सचिव तथा छ.ग. विज्ञान परिषद एवं तकनीकी विभाग के महानिदेशक डॉ.आलोक शुक्ला ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में रायगढ़ और पुसौर पीएलसी ग्रुप के शिक्षकों से रूबरू होकर बच्चों को नवाचार के माध्यम से स्कूल में अनेक गतिविधियों में शामिल करके उनकी बौद्धिक क्षमता को बढ़ाने के लिये कहा है। इस अवसर पर कलेक्टर श्री यशवंत कुमार उपस्थित थे।

प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला ने शिक्षकों को महत्वपूर्ण बातों के बारे में जानकारी दी और उन्होंने स्कूल वेबसाईट, किलोल ई-पत्रिका , नवाचार के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने की विधि बताई। उन्होंने कहा कि शिक्षक अपने स्कूल का वेबसाईट बनाना चाहते है तो उनसे संपर्क कर सकते है। उनके द्वारा नि:शुल्क वेबसाईट बना कर संबंधित शिक्षकों को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वेबसाईट बन जाने के उपरांत शिक्षकों को यूजर आईडी पासवर्ड दिया जाएगा, ताकि शिक्षक अपने स्कूल की उपलब्धियों एवं अन्य गतिविधियों के संक्षिप्त विवरण को वेबसाईट में अपलोड कर सकते है। उन्होंने कहा कि शिक्षक और बच्चे अपनी कविता, बालगीत, कहानियॉंँ आदि किलोल ई-पत्रिका में भेज सकते है जिसका प्रकाशन किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :- पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करेगा यह राज्य, CM ने कर दी घोषणा, कानून लागू करने वाला पहला राज्य बनेगा, जाने

डॉ. शुक्ला ने शिक्षकों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि किलोल ई-पत्रिका में छत्तीसगढ़ के शिक्षकों और बच्चों के द्वारा लिखी गई कहानी, कविता, बालगीत, नाटक, मुहावरे, गीत आदि रचनाओं को प्रकाशित किया जाता है। साथ ही शिक्षकों के द्वारा बनाई गई नवाचार गतिविधियों को भी ई-किलोल पत्रिका में शामिल किया गया है, शिक्षक अपने मोबाईल से ई-पत्रिका को डाउनलोड करके स्कूलों में बच्चों को अनेक गतिविधियों में शामिल करवा सकते है। उन्होंने शिक्षकों के अच्छे कार्य के लिये उनकी प्रशंसा की साथ ही शिक्षकों को स्कूलों के लिये कार्य सौंपे। शिक्षक अपने विद्यालय में किसी एक कक्षा में किसी एक विषय का या पूरे पाठ्यक्रम को किसी नवाचार के माध्यम से बच्चो को पढ़ा सकते हैं ताकि बच्चे सरल विधि से समझ सके ।

इसे भी पढ़ें :- व्यापमं घोटाले से सम्बद्ध के. के. मिश्रा के विरुद्ध पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा लगाया गया मानहानि परिवाद भोपाल जिला न्यायालय ने किया खारिज़

उन्होंने कहा कि अपने आसपास के उपलब्ध संसाधन से ही शिक्षक पढ़ाने के लिये नवाचार पद्धति को अपना सकते है। कलेक्टर श्री यशवंत कुमार ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में जिले के शिक्षकों को बेहतर कार्य करने के लिये आज मार्गदर्शन मिला है। उन्होंने कहा कि प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला जी ने पीडीएस के लिये भी उत्कृष्ट कार्य किये है जिसके लिये उन्हें लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के अंतर्गत पीडीएस प्रणाली के तकनीकी उन्नतिकरण के लिये प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया है। उन्होंने कहा कि ई-किलोल पत्रिका वेबसाईट के माध्यम से शिक्षक अपने अपने स्कूलों में नवाचार का उपयोग करके बच्चो को अनेक गतिविधियों में शामिल करें और उनके बौद्धिक क्षमता को बढ़ाएं।

इसे भी पढ़ें :- उज्जैन में इनामी गुंडे रौनक गुर्जर और उसके गैंग के सदस्यो का एनकाउंटर, पुलिस ने तीनों अपराधियों को गोली मारी

अपर कलेक्टर श्री राजेन्द्र कटारा ने धन्यवाद देते हुए कहा कि आज शिक्षकों को नई बातें सीखने को मिली है और शिक्षक अपने स्कूल में जाकर शिक्षा गुणवत्ता के लिये और बेहतर कार्य करें। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी श्री एस.एन.केसरी, सर्वशिक्षा अभियान, जिला मिशन संचालक समग्र शिक्षा के जिला समन्वयक श्री रमेश देवांगन, जिला योजना आर्थिक एवं सॉंख्यिकीय विभाग के डी.पी.एस.ओ. श्री एस.के. सिंह और शिक्षक शिक्षिकाएॅं बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें :- क्राइम सस्पेंस के तीसरे अंक में : आखिर वो कौन – कौन संभावित लोग जो एक विकलांग व माने गए फर्जी पत्रकार को उतारना चाहते हैं मौत के घाट