ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
ताप्ती जन्मोत्सव पर जगह-जगह लाउड-स्पीकर लगाने सौंपा ज्ञापन, घरों से करेंगे मां ताप्ती की महाआरती
June 16, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़
ताप्ती जन्मोत्सव पर जगह-जगह लाउड-स्पीकर लगाने सौंपा ज्ञापन, घरों से करेंगे मां ताप्ती की महाआरती

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ मुलताई, जिला बैतूल

लोग अपने-अपने घरों से करेंगे मां ताप्ती की महाआरती

मुलताई। नगर में हर साल ताप्ती जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जाता है। इस साल 27 जून को ताप्ती जन्मोत्सव मनाया जाएगा। कोरोना काल के चलते किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम पर पाबंदी लगा दी गई है। ऐसे में लोग घरों में ताप्ती जन्मोत्सव मनाएंगे।

इधर कुछ श्रद्धालुओं ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि 27 जून को नगर के विभिन्न चौक-चौराहों पर लाउड-स्पीकर लगाने की मांग की है, जिसके माध्यम से घर-घर तक ताप्ती मां की महाआरती की आवाज पहुंच सकें और लोग अपने-अपने घरों से मां ताप्ती की आरती कर सकें। श्रद्धालु सुमित शिवहरे द्वारा एसडीएम सीएल चनाप को सौंपे गए ज्ञापन में बताया कि गया इस कोरोना महामारी के दौरान जब मां ताप्ती जन्मोत्सव पर सभी श्रद्धालुओं से घर पर ही जन्मोत्सव मनाने की अपील की जा रही है।

ऐसे में सुझाव है कि जन्मोत्सव के दिन शाम को महाआरती के समय अपने घरों की बालकनी में आरती की थाली लेकर मां ताप्ती की आरती में शामिल हो। महाआरती की आवाज को ध्वनि विस्तार के लिए प्रशासन द्वारा जगह-जगह लाउड स्पीकर लगाए जाए, जिससे पूरा नगर घर पर रहकर ही मां ताप्ती महाआरती में सम्मिलित हो सके।

समितियां अभिषेक करें तो आम आदमी को भी मिले छूट

ताप्ती ट्रस्ट की बैठक में यह बात सामने आई थी कि कुछ समितियां अलग-अलग स्तर पर ताप्ती जन्मोत्सव मनाना चाह रही है। ऐसे में 11 जोड़ों के साथ मां ताप्ती का अभिषेक एवं महाआरती की जाएगी। इस निर्णय को लेकर आम जनमानस में आक्रोश है, लोगों का कहना है कि यदि समितियों को छूट मिल रही है तो आम आदमी को भी अभिषेक एवं महाआरती की छूट मिलनी चाहिए, इस तरह से भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। लोगों का कहना है कि सभी मां ताप्ती के भक्त है, ऐसे में कोई समिति यह तय नहीं कर सकती कि मां ताप्ती का पूजन कौन करेगा और कौन नहीं करेगा। लोगों का कहना है कि या तो मंदिर के पुजारियों को ही पूजन एवं अभिषेक का अधिकारी मिले या फिर सभी के लिए यह व्यवस्था होनी चाहिए, किसी समिति के निर्णय के आधार पर ऐसा नहीं होना चाहिए।