ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
उधार में रकम देकर तिगुना ब्याज वसूलने पिता-पुत्र बनाते थे दबाव, शिकायत बाद पिता-पुत्र पर कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज
June 9, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़
उधार में रकम देकर तिगुना ब्याज वसूलने पिता-पुत्र बनाते थे दबाव, शिकायत बाद पिता-पुत्र पर कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़  // उत्सव वैश्य : 9827482822 

रायगढ़।  चांदमारी रायगढ में रहने वाला शिव हलवाई पिता स्व. कन्हैया लाल हलवाई उम्र 33 वर्ष आज थाना कोतवाली में दानीपारा रायगढ में रहने वाले बृजमोहन अग्रवाल और उसके पुत्र अजय अग्रवाल द्वारा उधार में दिये रकम को वसूलने के लिये मानसिक रूप से दबाव बनाकर जेल भेजने की धमकी दिये जाने के संबंध में आवेदन पत्र दिया गया है ।                      

शिकायतकर्ता ने बताया कि आज से 10 वर्ष पहले अपने व्यापारिक काम से 3 प्रतिशत ब्याज पर 10 लाख रूपये बृजमोहन अग्रवाल से फायनेंस करवाया था । बृजमोहन अग्रवाल और अजय अग्रवाल बैंक की तरह अपना आफिस खोल रखे थे , जिससे वह विश्वास कर उनके द्वारा बैंक में देने के नाम पर कई कागजों में दस्तखत कराए, कागजों को बिना पढ़े जल्दबाजी में शिव हलवाई दस्तखत कर दिया था। उन्होने इससे गारण्टी के लिये कई चेक लिये उसके बाद 10 लाख रूपये  दिये । 

जब शिव हलवाई 3 प्रतिशत वार्षिक ब्याज के हिसाब से रकम वापस करना चाहा तो उन्हानें कहा कि प्रतिमाह 3 प्रतिशत ब्याज देना पडेगा । क्योंकि रकम फायनेंस करते समय बिना कागजातों को पढे शिव हलवाई ने दस्तखत किया था इसलिये वह मजबूरन 3% प्रतिमाह ब्याज पर रकम वापस करता रहा । कई किस्त अदा करने के बाद जब दोनों पिता-पुत्र ने शिव हलवाई को 25 लाख रूपये और देना है बताये तो शिव हलवाई ने अपनी परिस्थिति उनको बताई तो वे लोग 25 लाख रूपये और फायनेंस कर दे रहें हैं कहकर फायनेंस कर दिये और शिव हलवाई से पूरे चेक बुक में साइन कर रख लिये । 

उसके बाद शिव हलवाई को अब 1 करोड़ रूपये देना है कहकर दबाव बनाने लगे नहीं तो चेक बाऊंस के केस में फंसा देंगे कहकर धमकी दिये । शिकायतकर्ता द्वारा इसकी शिकायत आवेदन देकर थाना कोतवाली में किया गया है,  आवेदन पत्र पर कोतवाली थाना में दोनों पिता-पुत्र पर धारा 384,34 भादंवि एवं 4 कर्जा एक्ट के तहत कार्यवाही की गई है ।