ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
वीडियो ख़बर : लावारिस अवस्था में मिले करीब 100 बोरी महुआ पास किया गया नष्ट, पुलिस की बड़ी कार्यवाही
April 15, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • क्राइम / अपराध
लावारिस अवस्था में मिले करीब 100 बोरी महुआ पास किया गया नष्ट, पुलिस की बड़ी कार्यवाही

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़  // उत्सव वैश्य : 9827482822 

अवैध कच्ची महुआ शराब के विरुद्ध सरिया पुलिस की बड़ी कार्यवाही

रायगढ़ . लाक डाउन में देसी/विदेशी मदिरा दुकानों के बंद रहने से शराब कोचिये दिगर प्रांत ओडिशा से शराब लाकर बिक्री करते हैं.

किंतु महुआ शराब की डिमांड बढ़ने और कोचियों द्वारा पूर्ति न कर पाने से क्षेत्र में कच्ची महुआ का निर्माण करने की सूचना लगातार सरिया पुलिस को मिल रही थी जिस पर सरिया पुलिस द्वारा अपने स्टाफ व मुखबिरों को निगाह रखने हेतु तैनात किया गया था। 

इसे भी पढ़ें :- लॉक डाउन में एसडीएम की धर्मपत्नी सरकारी वाहन से सीख रही थी ड्राइविंग, पत्नी की करतूत से हटाए गए एसडीएम, वीडियो वॉयरल

आज दिनांक 15.04.2020 को सरिया थाना क्षेत्र के ग्राम सांकरा में पहाड़ और नदी किनारे बड़ी मात्रा में शराब बनाने की सूचना थाना प्रभारी सरिया निरीक्षक अंजना केरकेट्टा को मिली जिस पर उनके द्वारा पेट्रोलिंग पार्टी को सांकरा की ओर रवाना किया गया पेट्रोलिंग स्टाफ द्वारा नदी किनारे बड़ी मात्रा में बोरियों में महुआ पास तथा शराब बनाने के लिए ड्रम, गंज, कढ़ाई रखे होने की जानकारी दिया । 

इसे भी पढ़ें :- जनसंपर्क अधिकारी आनंद जैन के खिलाफ पत्रकारों का गुस्सा, मनपसंद पत्रकारों को ख़बर बाकी को बाबाजी का ठुल्लू

तब टी.आई. सरिया अपने स्टाफ प्रधान आरक्षक धनेश्वर उरांव, आरक्षक राजकुमार साव, संजय मिंज, अशोक पटेल एवं गोपाल साहू के साथ मौके पर पहुंची । मौके पर कोई व्यक्ति नहीं मिला, वहां करीब 100 बोरी महुआ पास, ड्रम, गंज, कढ़ाई रखा हुआ था जिसे सरिया टी.आई. द्वारा अपने कर्मचारियों से नष्ट करवाया गया है । अनुमान है कि जितनी मात्रा में महुआ पास रखे थे उससे लगभग 1000 लीटर कच्ची महुआ शराब बनाया जा सकता था ।

इसे भी पढ़ें :- होम क्वारेंटाइन में वृद्ध की मौत, फर्श और घर की दीवारों पर रेंग रहे थे कीड़े, योगी सरकार के खोखले दावों की कहानी