ALL राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़ क्राइम / अपराध राजनीति मनोरंजन / सिनेमा खेल खिलाड़ी स्वास्थ्य जगत शिक्षा / कैरियर बिजनेस / तकनीकी
यहां कम उम्र की लड़कियों को जबरन बनाया जाता है मां
January 24, 2020 • TIMES OF CRIME , Editor : VINAY G. DAVID • अंतरराष्ट्रीय
यहां कम उम्र की लड़कियों को जबरन बनाया जाता है मां

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

अफ्रीकी देश नाइजीरिया में बच्चा पैदा करने वाली फैक्ट्रियां चल रही हैं। ‘बेबी फार्मिंग’ नाम का गोरख धंधा यहां जोरों पर है। यहां किसी और की खुशी के नाम पर हो रहे इस धंधे ने भयानक रूप ले लिया है।

कम उम्र की अफ्रीकी और विदेशी लड़कियों को यहां जबरन प्रेग्नेंट कर बच्चे पैदा किए जाते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं यहां की दर्दनाक कहानी। दरअसल, बेऔलाद कपल्स को बच्चा बेचने के लिए शुरु किया गया ये धंधा तेजी से पनप रहा है। इसके लिए बेऔलाद कपल्स मोटी रकम चुकाने तैयार होते हैं।

इसे भी पढ़ें :- राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ रंजना गुप्ता ने किया अपने पद का दुरुपयोग, नियमों की उड़ाई धज्जियां, मोहरा बनी श्रीमती रीता बहरानी जल्द जाएगी जेल

ऐसे में कुछ महिलाएं और लड़कियां यहां पैसे के लालच में मर्जी से आती हैं, तो वहीं इसी की आड़ में कई लड़कियों को खरीद कर यहां लाया जाता है और फिर उन्हें जबरन मां बनने पर मजबूर किया जाता है। सिर्फ नाइजीरिया ही नहीं इंडोनेशिया समेत कई और देशों में भी बेबी फार्मिंग अस्पतालों और अनाथालायों जैसी जगहों में चोरी-छिपे की जाती है।

इसे भी पढ़ें :- फर्जी वेबसाइट्स घोटाला : जनसंपर्क विभाग के पीएस संजय शुक्ला व आयुक्त पी. नरहरि को हाईकोर्ट का अवमानना नोटिस 

यहां कम उम्र की लड़कियों को मां बनने के लिए मजबूर किया जाता है। इनमें से ज्यादातर अनाथ या गरीब होती हैं, इसलिए वो मजबूरी में इसके लिए राजी हो जाती हैं।

नाइजीरिया में चोरी छिपे चल रहा बच्चा पैदा करने का व्यापार बेहद खतरनाक हो चुका है। यहां जन्म देने वाली लड़कियों की उम्र 14 से 17 साल होती है और वो चाहकर भी अबॉर्शन नहीं करा सकती, क्योंकि नाइजीरिया के कानून में इसकी इजाजत नहीं है।

इसे भी पढ़ें :- यौन उत्पीड़न की शिकायत पर उप पंजीयक निलंबित   

इसी बात का फायदा माफिया यानी ‘बेबी फार्मर्स’ उठाते हैं और बच्चों को तीन से चार लाख रुपए में बेचते हैं। वहीं, बच्चे की ख्वाहिश रखने वाले लोग इसका विरोध नहीं करते, क्योंकि मेडिकल ट्रीटमेंट के बजाय ये तरीका ज्यादा सस्ता होता है।

इसे भी पढ़ें :- माफिया मुक्त भोपाल अभियान की कमिश्नर द्वारा समीक्षा, एक हजार व्यक्तियों को प्लाट दिलाने की मुहिम जारी